रूस की मदद से भारत 2022 में अपना पेहला मानव युक यान अंतरिक्ष में भजेगा

चूंकि रूस अंतरिक्ष के लिए भारत के मिशन , गगनयान के लिए सहयोग करने के लिए तैयार है, इसके राजदूत निकोले कुदाशेव ने सोमवार को कहा कि भारतीय अंतरिक्ष यात्री के रूस में प्रशिक्षित होने की संभावना बहुत अधिक हैं।
उन्होंने कहा कि रूस परियोजना के लिए रॉकेट लॉन्चर के विकास में, चालक दल के सुरक्षा उपायों, संचार और उड़ान के लिए अंतरिक्ष यात्री को प्रशिक्षण देने में भारत के साथ सहयोग करेगा।

रूस के भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को प्रशिक्षित करने के सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए श्री कुदाशेव ने कहा, “उनका स्वागत है। हमें यकीन है कि हम उन्हें प्रशिक्षित करेंगे। इस तरह की संभावना वार्ता के दौरान खोजी गई थी। और उनकी हमारे स्टार सिटी में हमसे प्रशिक्षण प्राप्त करने की संभावना है । ”

स्टारस्पेस सिटी रूस में एक शहर है जो अंतरिक्ष यात्री प्रशिक्षण के लिए समर्पित है।

प्रधानमंत्री नरेरंद्र मोदी ने अपने स्वतंत्रता दिवस के भाषण में २०२२ तक तीन अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष में भेजने की घोषणा की थी

Post Author: Durga Shanker Mishra

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *